कानून का रखवाला, फर्ज की मशीन, Raj Comics का इंस्पेक्टर स्टील।

0
57

Raj Comics पढ़ने वाले सभी लोग Inspector Steel से भाली भांति परिचित हैं। Inspector Steel वो शख्सियत हैं जिसने अपनी पूरी जिंदगी कानून की रक्षा और लोगो की हिफाज़त में लगाई है और उससे कभी भी समझौता नहीं किया है। इंस्पेक्टर स्टील ने इसे इसे कारनामे किए हैं कि हम दांतो तले उंगली दबा ले लेकिन फर्ज की मशीन ने कभी भी कठिनाइयों से मुंह नहीं फेरा। इसका एक उदाहरण हमने अपने पिछले एक आर्टिकल में दिया था। अगर आपने वो आर्टिकल नहीं पढ़ा होती जरूर पढ़िएगा क्यूंकि उस आर्टिकल में इंस्पेक्टर स्टील ने ब्रह्माण्ड रक्षक ग्रुप के सबसे बेहतरीन लम्हों में पहला स्थान हासिल किया।

Inspector Steel – Raj Comics news in Hindi

 

किसी जुझारू इंसान के लिए अक्सर ऐसा कहा जाता है कि “उसने अपना तन और मन दोनों कुर्बान कर दिया।” लेकिन ये बात इंस्पेक्टर स्टील के लिए 100 फीसदी सही साबित होती है। इंस्पेक्टर स्टील ने अपनी पूरी ज़िन्दगी कानून की रक्षा के लिए न्योछावर कर दी और जब शरीर ने साथ छोड़ दिया तो मशीनो कि सहायता से फिर अपने आपको ज़िंदा कर लिया, सिर्फ और सिर्फ कानून की सुरक्षा करने के लिए।

फ़र्ज़ की इस मशीन के रचियता नरेश कुमार, ललित सिंह और प्रदीप शेरावत जी हैं। स्टील की पहली कॉमिक्स का नाम इंस्पेक्टर स्टील ही हैं और इस पर पहली कहानी हनीफ अजहर जी ने लिखी हैं।

इंस्पेक्टर स्टील का असली नाम इंस्पेक्टर अमर हैं। राजनगर का वो बहादुर सिपाही जिसने अपराधियों का जीना मुश्किल कर दिया था। इंस्पेक्टर अमर राजनगर पुलिस में सबसे वफादार और ईमानदार पुलिस अफसर में से एक माना जाता था। उसके होते हुए अपराधी अपराध करके बचकर निकल जाए ये असंभव था। एक एक्सिडेंट में इंस्पेक्टर अमर बुरी तरह से घायल हो जाता है जहां उसकी मौत हो जाती हैं। शरीर के मरने के बाद वैज्ञानिक दोस्त प्रोफेसर अनीस अमर का दिमाग निकाल कर अपने पास रख लेते हैं। करीब 5 सालो की कड़ी मेहनत के बाद प्रोफेसर अनीस अपनी काबिलियत से अमर को एक नई मशीनी ज़िंदगी देते हैं। और अब इंस्पेक्टर अमर को नई पहचान मिलती हैं और वो होती हैं इंस्पेक्टर स्टील। इंस्पेक्टर स्टील को साइबॉर्ग भी कहा जाता है जिसका मतलब है ऐसा शख्स जिसका शरीर मशीनी ताक़त से भरा हुआ हो और इंसानी जिस्म का कुछ ही हिस्सा हो।

1st appearance – Raj Comics news in Hindi

 

अपनी पहली कॉमिक्स इंस्पेक्टर स्टील में बताया जाता है कि ऑक्टोपस नाम का आतंकवादी ग्रुप एक प्लेन को हाईजैक कर लेता है और इसे बम से उड़ाने की धमकी देता है। इस प्लेन में मुख्यमंत्री और उनके सहयोगी भी होते हैं। आतंकवादी 50 करोड़ की सुपारी मांगते हैं और इसके लिए उन्हें एक घंटे की मोहलत मिलती हैं। प्लेन राजनगर एयरपोर्ट के ऊपर ही चक्कर लगाने लग जाता हैं। किसी को कोई रास्ता नहीं सूझ रहा था कि कैसे प्लेन के अंदर फंसे लोगो को बचाया जाए। एक वक्त पर सरकार उन आतंकवादियों कि बात भी मान लेती हैं। लेकिन यहां वापसी होती हैं राजनगर पुलिस डिपार्टमेंट के सबसे बहादुर इंस्पेक्टर की। इंस्पेक्टर स्टील सामान्य कपड़ों में बिना किसी के नजर में आए, एक हेलीकॉप्टर कि मदद से उस प्लेन में घुसते हैं लेकिन अंदर कोई आतंकवादी नहीं होता। इंस्पेक्टर स्टील अपनी एक्स रे विजन से बम को ढूंढ़ निकालता हैं और उसे बाहर फेंक देता है लेकिन फिर भी उस प्लेन के बाहर आग लग जाती हैं। यहां इंस्पेक्टर स्टील अपनी जान की परवाह किए बिना सभी को बचाता है। सभी को बचाने तक स्टील खुद प्लेन में रह जाता है और प्लेन पूरी तरह आग का गोला बनकर ब्लास्ट हो जाता है। सभी को लगता है कि वो इंसान जलकर मर गया लेकिन उन आग की लपटों से एक मशीनी शक्सियत बाहर निकलती हैं जिसका नाम होता है इंस्पेक्टर स्टील। यहां पहली बार स्टील को सभी के सामने दिखाया जाता है। जो कि अपने आप में बहुत ही अद्भूत नज़ारा होता है।

बात करे इंस्पेक्टर स्टील की ताक़त के बारे में तो स्टील का पूरा शरीर स्टेनलेस स्टील का बना हुआ है। स्टील की लंबाई करीब 7 फीट और वजन करीब 450 किलोग्राम है। स्टील के पूरे शरीर में सिर्फ अमर का इंसानी दिमाग हैं जो स्टील को कोई भी काम करने के लिए सोचने की शक्ति देता है। स्टील के शरीर पर गोलियों और बम का कोई असर नहीं होता। इंस्पेक्टर स्टील अपनी वजन की तुलना में ठीक ठाक गति से भाग सकता हैं। तेज गति से भागने के लिए स्टील रोलर स्केटिंग कर सकता है। स्टील बाइक चला सकता है। हेलीकॉप्टर उड़ा सकता है।

Inspector Steel Mega Gun – Raj Comics news in Hindi

स्टील की बॉडी में कई तरह की छोटी गन लोडेड हो सकती है। किसी बड़े खतरे से निपटने के लिए स्टील मेगागन का इस्तेमाल करता हैं जो कि भारी तबाही मचा सकती हैं और जिसमें आधुनिक बंदूक, लेजर और रॉकेट्स शामिल हैं। स्टील अपने शरीर से जैमर एक्टिवेट कर सकता हैं। स्टील अपनी आई से किसी भी बड़ी जगह की की स्कैनिंग कर सकता है। इसके अलावा स्टील के शरीर में कई तरह के चिप्स और इलेक्ट्रॉनिक सिस्टम लगे हुए हैं जो कि वक्त पड़ने पर उसकी मदद करते हैं।

बात करे इंस्पेक्टर स्टील की कर्मभूमि तो वो राजनगर हैं। उसके प्रमुख साथियों में प्रोफेसर अनीस और इंस्पेक्टर सलमा शामिल हैं। कभी कभी सुपर कमांडो ध्रुव और चंडिका भी स्टील के साथ दिखाई देते हैं।वहीं बात करे तो इंस्पेक्टर स्टील के दुश्मनों कि तो उनमें वंडर वूमेन, फरसा, मैकेनिक, हेमर, एलिगेटर आदि शामिल हैं।

इंस्पेक्टर स्टील से हम हर हालत में कानून का पालन करने और विपरीत परिस्थितियों से कभी समझौता नहीं करने के बारे में सीखते हैं।

आपको हमारा आर्टिकल कैसा लगा? क्या आप इंस्पेक्टर स्टील के बारे में ये सब जानते थे? हमे कमेंट सेक्शन में अपनी राय दे। हमारे पेज को अपने ब्राउज़र में सेव कर ले ताकि आपको हमारे उपयोगी और मजेदार पोस्ट मिलते रहे।

Raj Comics और Super Commando Dhruva की बालचरित श्रंखला का सुखद अंत?

Raj Comics के ब्रह्मांड रक्षकों से जुड़े कुछ यादगार पल।

Super Commando dhruva के वो 5 पल, जब दिमाग का इस्तेमाल कर उसने अपने दुश्मनों को दी शिकस्त।

तुलसी कॉमिक्स के इन 3 प्रसिद्ध सुपरहीरोज को भूले तो नहीं?

Raj Comics के सुपरहीरो “तिरंगा” को आप कितना जानते हैं?

Raj Comics के 5 सुपर विलेन जिनको फिर किसी ना किसी कॉमिक्स में लाया जाना चाहिए।

Parmanu- में भी तो आपका सुपरहीरो था। मेरे साथ ऐसा क्यों किया?

Raj Comics के इतिहास के 5 सबसे शक्तिशाली सुपर हीरोज

तो बात करते हैं कॉमिक्स पर – 01 सम्राट और सौडांगी

राज कॉमिक्स के इतिहास के 5 सबसे शक्तिशाली सुपर विलेन।

भारतीय कॉमिक्स का इतिहास और वर्तमान स्थिति

13Shares

Leave a Reply